Home > Inspirational > Untold story of Nawajuddin Siddiqui/नंबरदार नवाजुद्दीन से नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी का सफ़र

Untold story of Nawajuddin Siddiqui/नंबरदार नवाजुद्दीन से नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी का सफ़र

अपने अभिनय से किरदार को जीवित कर देने वाले अभिनेता नवाज़ुद्दीन सिद्दकी को कौन नहीं जानता बस एक बार जिसने इनकी acting देखी मुरीद हो गया।

इनके जीवन से जुड़े बहुत से पहलू हैं जो आप और मैं शायद इस post से पहले नहीं जानते होंगे। कोई नहीं जानता कि C grade मूवीज़ में काम कर चुके नवाजुद्दीन ने अपने अभिनय का सफ़र सिर्फ 40 seconds के रोल से शुरू किया था।  नवाजुद्दीन का जन्म 19 मई 1974 को  उत्तर प्रदेश में हुआ। National school of drama जहाँ से नवाजुद्दीन ने अपनी पढ़ाई पूरी की वहां इनका नाम नम्बरदार नवाजुद्दीन सिद्दीकी के नाम से रजिस्टर्ड है वो इसलिए क्यूंकि वे मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना गांव के एक जमींदार परिवार से सम्बन्ध रखतें हैं और परिवार में लोग उनके दादा-पड़दादा को नंबरदार के नाम से ही संबोधित करतें आयें हैं तो उन्हें भी ये नाम विरासत में मिला है।

source:hindustantimes
  1. इंटरमीडिएट की पढाई पूरी करने के बाद नवाजुद्दीन ने हरिद्वार की गुरुकुल कांगड़ी यूनिवर्सिटी से केमिस्ट्री में ग्रेजुएशन पूरी की और उसके बाद चीफ केमिस्ट की नौकरी की उस समय उनके खानदान में अकेले ये ही थे जिन्होंने ग्रेजुएशन तक पढ़ाई की थी।
  2.  दिल्ली नौकरी की तलाश में आये और कोई उन्हें NSD(National school of drama) का play दिखाने ले गया उस समय उन्हें फील हुआ की मैं actual में करना तो यही चाह रहा था तो वहीं के एक ग्रुप में डेढ़ साल काम करने के बाद NSD में एडमिशन ले लिया ।  
  3. शुरुआत में दिल्ली में ही Street play करने वालों के साथ जॉब की और एक दिन वो किसी शौचालय में पेशाब कर रहे थे और एक पोस्टर पर नजर गयी जिस पर Noida में किसी खिलौने बनाने की फैक्ट्री में सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी का ऑफर था।
  4. इस नौकरी को पाने के लिए 5000 रूपये security deposit उन्हें उस कंपनी में देना था तो ये घर गये और अपनी माता जी के गहने सुनार के पास गिरवी रखे और deposit देकर नौकरी करना शुरू कर दिया। 500 रूपये की तनख्वाह वाली नौकरी इन्होने एक से डेढ़ साल तक की।
  5. हर ऱोज 9 बजे से 5 बजे की नौकरी करने के बाद वे NSD चले जाते थे और acting की practice करते थे।
  6. दो तीन बार उन्हें उनके मालिक ने बेंच पर बैठे देख लिया क्यूंकि सिक्यूरिटी गार्ड की नौकरी में बैठना मना था इसके चलते उन्हें डेढ़ साल के बाद निकाल दिया गया और Security वापिस न मिलने की वजह से उनके 5000 रूपये डूब गये।

    source:indiatimes.com
  7. 10-12 साल तक उन्हें छोटे-छोटे roles मिलते रहे और उनका खर्चा चला।
  8. अच्छे looks न होने की वजह से उन्हें underestimate किया जाता था की इसे ये छोटा रोल दे दो और इस चीज़ का उन्हें काफी ज्यादा frustration होता था।
  9. सरफ़रोश फिल्म में उन्हें रोल इसलिए मिला क्यूंकि वह एक्टर available नहीं था जिसने यह रोल करना था।
  10. मिस लवली, ब्लैक फ्राइडे, पतंग जैसी फिल्मों और सीरियल्स से पहचान मिली और करीब 40 फिल्मों में काम कर चुकें हैं।

इसके अलावा नवाजुद्दीन को कई पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है:

2013 में बदलापुर और  “The Lunchbox” के लिए उन्हें “best supporting actor” का Filmfare Award मिल चुका है।

2015 में उन्हें “बजरंगी भाईजान” में best actor in a comic role और बदलापुर में “best actor in negative role” के लिए “Zee Cine Award” से सम्मानित किया गया।

दोस्तों!! आपको ये हमारी पोस्ट कैसे लगी comment box में जरुर बताएं और आप हमें Email भी कर सकतें हैं हमारा email id है hellonewsfellow@gmail.com

One thought on “Untold story of Nawajuddin Siddiqui/नंबरदार नवाजुद्दीन से नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी का सफ़र

  1. Where there is a will there is a way. If you start something then should dedicate yourself to achieve the goal – this is what Nawajuddin’s story tell us..
    Great personality!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *