Newsfellow.com News,Uncategorized तो ये है इस साल के “योग दिवस” का मुख्य विषय /This year’s “Yoga Day” theme

तो ये है इस साल के “योग दिवस” का मुख्य विषय /This year’s “Yoga Day” theme



11 दिसम्बर 2014 को प्रस्तावित भारत के प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी के आग्रह्स्वरूप United Nations ने 21 जून को “International Yoga Day” घोषित किया। आपको बता दें कि 177 देशों ने रिकॉर्ड मात्र 12 हफ़्तों में इसे वैश्विक स्तर पर मनाने के लिए मंजूरी दी। ऐसा लगता है कि मानो सभी देश भारत की इस पावन धरोहर को अपनाने के लिए लालायित बैठे थे।  5000 वर्षों से चली आ रही इस प्राचीन विद्या का पूरे संसार ने एक साथ समर्थन किया।

प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से योग से होने वाले लाभों को भले ही लोग जानते जरूर हैं लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जिन्हें सिर्फ इसका विरोध करना ही जरूरी लगता है और देश का गौरव उन्हें अपना गौरव नहीं लगता। खैर!! छोड़िये… हम ऐसे लोगों की बातों में ही क्यों पडें। योग दिवस को मनाने का लक्ष्य स्वास्थ्य लाभ के प्रति जागरूकता बढ़ाना है ताकि लोग स्वयं तो लाभ लें ही और जन जन तक इसे पहुंचाएं। इसलिए इस साल का विषय “स्वास्थ्य के लिए योग”/”Yoga for health”  रखा गया है। योग का अर्थ होता है “जोड़ना” और आजकल के दौर में जहाँ इतनी चंचलता है कि हम अपने शरीर और मन के बीच ही सामंजस्य नहीं बिठा पाते, वहीं योग शारीरिक और मानसिक संतुलन स्थापित करने में सहायक सिद्ध हो रहा है, और इसीलिए वैश्विक रूप से अलग अलग देशों की सरकारों को इसकी आवश्यकता महसूस हुई।

कौन बनाएगा वर्ल्ड रिकॉर्ड:

दुनिया में भारत को योग की राजधानी के रूप में जाना जाता है। लेकिन इस बार “मैसूर” इतिहास के पन्नों में अपना नाम दर्ज करवाने जा रहा है। “International Yoga Day” पर इस बार का “Guinness Record  स्थापित करने के लिए 50000 योग अभ्यार्थी तैयारी में जुटें हैं। इस से पहले यह रिकॉर्ड 2014 में दिल्ली में मनाये गये योग दिवस के नाम है, जिसमे कुल 35895 अभ्यार्थियों ने भाग लिया था। 2014 में ही 3849 योगियों द्वारा एक मानव श्रृंखला बनाने का रिकॉर्ड भी स्थापित किया गया, इन दोनों ही रिकार्ड्स को मैसूर, 50000 योग अभ्यार्थियों और 5001 योगियों द्वारा बनाई जाने वाली मानव श्रृंखला बनाकर तोड़ने के प्रयास में लगा है। वास्तव में, इसी तरह के प्रयासों और अनुष्ठानों से भारत के ऋषि मुनियों द्वारा स्थापित पावन धरोहर का लाभ प्राणीमात्र द्वारा लिया जा सकेगा।

कहाँ कहाँ मनाया जायेगा योग दिवस: 

यू.एस.ए: न्यूयोर्क के वासी जो भी अपनी अंतरात्मा की शांति चाहतें हैं वो “Times Square” पर पूरा दिन किसी भी समय में आ सकतें हैं। 21 जून पृथ्वी का सबसे बड़ा दिन भी होता है और इस लम्बे दिन का लाभ लेने के लिए पूरा दिन free yoga classes का आयोजन रहेगा ।यह आयोजन United Nations के सहयोग से किया जा रहा है, जिसका registration आप 21 जून से पहले जब चाहें करवा सकतें हैं, यदि कोई व्यक्ति दान देना चाहता है तो उसका भी स्वागत है। यह दान राशि बाद में United Nations की देख रेख में चैरिटी के कामों में खर्च की जाएगी।

 

मलेशिया: यह देश भी विश्व योग दिवस को मनाने की तैयारी में जुटा है, जिसमे 10000 योगी Dataran Merdeka, Kuala Lumpur में एकत्र होंगे। यदि ऐसा होता है तो मलेशिया इस दिन अपने देश द्वारा 2016 में स्थापित 5000 योग अभ्यार्थियों का रिकॉर्ड तोड़ने में सफल होगा। ऐसा करने से मलेशिया का नाम Malaysia Guinness Book of Records में दर्ज हो जायेगा।

सिंगापुर: यह देश इस वर्ष पहली बार “International yoga day” को मनाने की तैयारी में जुटा है। देश में अलग अलग 50 स्थानों पर फ्री yoga classes का आयोजन किया जायेगा। 17 से 25 जून तक विभिन्न स्थानों जैसे Changi Airport, ION Orchard Mall और अनेक विद्यालयों और यूनिवर्सिटीज में इसका आयोजन शुरू हो चुका है।

अगर आपके भी आस पास विश्व योग दिवस के अंतर्गत कोई कार्यक्रम मनाया जा रहा है तो आपसे अनुरोध है कि आप भी उसका हिस्सा बनकर देशभक्ति का परिचय दें, और अगर ऐसा नहीं है तो घर पर ही कुछ आसन, प्राणायाम करके इसे उत्सव की तरह मनाएं।योग दिवस से जुड़े अपने विचार और अपना experience नीचे कमेंट box में शेयर करना न भूलें।

1 thought on “तो ये है इस साल के “योग दिवस” का मुख्य विषय /This year’s “Yoga Day” theme”

  1. Akash says:

    Inspiring article..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *