बिना तंदूर के नान और स्वादिष्ट पकवान बनाने वाली निशामधुलिका कैसे हुई सफल?

Hello Fellows,

एक ऐसी शख्सियत जिन्हें “Queen of Vegetarian Indian Recipes” कहा जाये तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी। भारत में जिन महिलाओं द्वारा घरेलू जीवन चुन लिया जाता है उनके विषय में लोगों की मानसिकता एक साफ-सफाई, रोटी बनाने वाली, घर की देखभाल करने वाली महिला के रूप में बन जाती है। बिना तंदूर के नान और स्वादिष्ट पकवान बनाने वाली निशामधुलिका कैसे हुई सफल? आइये जानतें हैं:-

भारत में इनके जैसी कुछ महिलाएं ऐसी भी हैं जो समाज की इस प्रकार की रुढियों को तोड़ने में लगीं हैं और जिन्होंने अपने घर के काम काज को ही अपना टैलेंट बना लिया है।

नोएडा की रहने वाली श्रीमती निशा मधुलिका जी को कौन नहीं जानता। Youtube पर वेजीटेरियन व्यंजन सिखाने वाली आंटी जी जिनसे आज न जाने कितनी भारतीय महिलाएं प्रेरणा ले रही हैं।

कैसे हुई शुरुआत: 

2007 में उन्होंने खानाबनाना से अपने ब्लॉग की शुरुआत की। एक चैनल को दिए गये इंटरव्यू में उन्होंने बताया कि एक दिन वे ऐसे ही ब्लॉग पढ़ रही थी तो एक रेसिपी ब्लॉग उनके सामने आया और उनके मन में आया कि ये ऐसा काम है जिसे वे बड़े अच्छे ढंग से कर सकतीं हैं क्यूंकि खाना बनाना उनके बचपन का शौक रहा है।

कुछ समय ब्लॉग पर एक्टिव रहने के बाद उन्होंने अपने पति से ये आईडिया शेयर करते हुए उन्हें बताया कि वे ये काम बड़े अच्छे से कर सकतीं हैं, बस फिर क्या था पतिदेव ने डिजिटल कैमरा लाकर दिया और हो गयी Nishamadhulika.com शुरुआत।

जैसे ही उनकी रेसिपीज की गिनती 100 तक पहुंची वैसे उनके बेटे ने इस वेबसाइट को बनाया और वे अब 2011 आते आते अपनी इन रेसिपीज इस वेबसाइट पर डालने लगीं अब तक वें 1300 व्यंजनों को अपनी वेबसाइट पर पोस्ट कर चुकीं हैं।

निशामधुलिका

जीवन के इस पड़ाव पर होने के बावजूद उनके मन में ये जज्बा था कि समय का सदुपयोग करना चाहिए जिससे कि कुछ क्रिएटिव किया जा सके और उनका काम कुछ लोगों के काम भी आये। कुछ कर गुजरने की इच्छा के परिणामस्वरूप आज Nishamadhulika.com आज बुलंदियों के शिखर को छू रहा है।

लज़ीज़ खाना निशामधुलिका द्वारा

सबसे बड़ी बात यह कि आपको इस वेबसाइट पर केवल और केवल शाकाहारी व्यंजन ही मिलेंगे। वे बताती हैं कि मैं अपने विडियो में उसी खाद्य सामग्री का इस्तेमाल करती हूँ जो आसानी से उपलब्ध हो सके।

यह भी पढें: चंडीगढ़ में “माँ का प्यार” बांटती अंबाला की “राधिका अरोड़ा”

शुरुआती दौर में उन्हें विडियो बनाने और अपलोड करने में कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ा जैसे उनकी विडियो अच्छे से शूट नहीं हो पाती थी। इसके बाद घर में ही एक स्पेयर कमरे को सेट के लिए मॉडिफाई किया गया जिसे हम आज उनके वीडियोज़ में देखतें हैं इस तरह समय के साथ उन्होंने अपनी सभी कमजोरियों पर विजय पाई।

कुछ आंकड़े जो बतातें हैं निशामधुलिका की success story:

आज Youtube.com पर निशा जी के चैनल के लगभग 33.5 लाख सब्सक्राइबर्स हैं और उनके वीडियोज़ लगभग 65 से 70 करोड़ बार देखे जा चुकें हैं वें भारत के टॉप -10 youtubers में शुमार हैं।

सन 2014 में उन्हें टॉप शेफ इंडिया का अवार्ड भी मिल चुका है।

निशामधुलिका टॉप शेफ अवार्ड

जीवन में कभी भी हार न मानने वाले लोगो की जीत हमेशा निश्चित होती है लेकिन, हमारे प्रयास सतत होने चाहिए और प्रतिदिन की मेहनत रुपी आहुति से लक्ष्य रुपी हवनकुंड की अग्नि भी प्रज्ज्वलित रहनी आवश्यक है।

दोस्तों! आपको हमारी यह पोस्ट कैसी लगी हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट के माध्यम से या hellonewsfellow@gmail.com पर ईमेल करके अवश्य बताएं।

 

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*