Newsfellow.com Inspirational स्वतन्त्रता दिवस के विषय में जानिए अनजानी बातें:) Lesser known facts about India’s Independence.

स्वतन्त्रता दिवस के विषय में जानिए अनजानी बातें:) Lesser known facts about India’s Independence.



Hello Fellows ,

स्वतन्त्रता दिवस के उपलक्ष्य में आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं। अगर हम ध्यान दें तो पाएंगे कि हम तो कभी गुलाम थे ही नहीं 🙂 क्योंकि मुझे लगता है कि गुलामी को स्वीकार करने वाला ही गुलाम हो सकता है और हमारा तो इतिहास संघर्षों से भरा पड़ा है। अपने स्वाभिमान को प्राप्त करने के लिए न जाने कितने ही महापुरषों ने अपने जीवन कुर्बान किये और साथ ही अपने परिवारों का भी बलिदान देने से नहीं चूके। चाहे वे महाराणा प्रताप हों, पृथ्वीराज चौहान, वीर शिवाजी, गुरु तेग बहादुर, गुरु गोविन्द सिंह एवं परिवार, छत्रसाल, रानी लक्ष्मीबाई, भगत सिंह, लाला लाजपतराय, वीर सावरकर,सुभाष चन्द्र बोस,चन्द्रशेखर आज़ाद, मोहनदास करमचंद गाँधी और भी ना जाने कितने ही महापुरषों के नाम गिनवाए जा सकतें हैं।

तो आइये इस पावन अवसर पर इन सब हुतात्माओं से प्रेरणा लेकर अपने देश और संस्कृति के लिए उत्थान के लिए हमेशा तत्पर रहें।

आज स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर जानतें हैं कुछ ऐसी बातें जिनसे बहुत से मित्र अनभिज्ञ हैं।

  1. भारत के स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त 1947 को भारत का कोई राष्ट्रीय गान नहीं था। नोबेल पुरस्कार विजेता रबीन्द्रनाथ टैगोर ने 11 दिसम्बर 1911 को बंगाली में “जन गन मन” की रचना की जिसे 24 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान द्वारा “राष्ट्रीय गान” के रूप में स्वीकृत किया गया। यह राष्ट्र गान हिंदी में था।
  2. भारत के अंतिम वायसराय और प्रथम  गवर्नर जनरल लुई माउंटबेटन ने 15 अगस्त को हमारे देश की स्वतंत्रता की तारीख के रूप में घोषित किया क्योंकि 1945 में यह वही दिन था जब द्वितीय विश्व युद्ध के अंत में जापान ने मित्र देशों के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया था।
  3. उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया, बहरीन और कांगो गणराज्य भी 15 अगस्त को अपने स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं।

  4.  हालांकि भारत को आजादी मिल चुकी थी, लेकिन गोवा को अभी भी पुर्तगाल के लोगों द्वारा नियंत्रित किया जा रहा था। 19 दिसम्बर 1961 में गोवा को भारत के साथ आत्मसात कर लिया गया।

  5. भारतदेश 562 रियासतों से मिलकर बना था और आज़ादी के समय 560 राज्य(रियासत) भारत में शामिल हो गए, बाकि बची 2 रियासतें जूनागढ़ और हैदराबाद पर सेना ने कब्जा कर लिया। हैदराबाद भारत में मिलने वाली आखिरी रियासत थी। 

  6.  यह 1900 के प्रारंभ में था कि स्वतंत्रता सेनानी लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक और पारसी व्यापारी सर रतन जमशेदजी टाटा ने स्वदेशी के निर्माण, बिक्री और उपयोग को बढ़ावा देने के लिए बॉम्बे स्वदेशी को-ऑपरेटिव स्टोर कंपनी लिमिटेड की कल्पना की थी। इस स्टोर को अब बॉम्बे स्टोर कहा जाता है। 

  7.  हालांकि हम देखते हैं कि हमारे तिरंगा के लिए इस्तेमाल होने वाली विभिन्न सामग्रियां हैं, लेकिन इस देश का कानून कहता है कि हमारे राष्ट्रीय ध्वज के लिए “खादी” (हाथों का कपड़ा) का इस्तेमाल किया जाना चाहिए। भारत की ध्वज संहिता के अनुसार राष्ट्रीय ध्वज बनाने के लिए अगर किसी और सामग्री का इस्तेमाल किया जाता है तो ऐसा करने पर तीन साल की सजा का प्रावधान है।

  8.  स्वतंत्रता सेनानी पिंगली वेंकैया ने 1921 में आंध्र प्रदेश के बेजावाड़ा (अब विजयवाड़ा) शहर में राष्ट्रीय ध्वज का पहला संस्करण बनाया। इसके दो रंग थे- भगवा (अधिक लाल) और हरा – भारत में दो प्रमुख समुदायों, हिंदू और मुस्लिम का प्रतीक। यह महात्मा गांधी थे जिन्होंने अन्य समुदायों का प्रतिनिधित्व करने के लिए मध्य में एक सफेद खिंचाव और प्रगति के प्रतीक के रूप में एक कताई पहिया का सुझाव दिया।

  9.  गांधीजी स्वतंत्रता के बाद कांग्रेस पार्टी को भंग करना चाहते थे। 30 जनवरी, 1948 को अपनी हत्या की पूर्व संध्या पर, गांधी ने कांग्रेस के लिए एक प्रस्ताव तैयार किया था, जिसमें उन्होंने लिखा था: “हालांकि दो भागों में विभाजित हुए भारत को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस, वर्तमान स्वरूप में कांग्रेस द्वारा तैयार किए गए माध्यमों के माध्यम से राजनीतिक स्वतंत्रता प्राप्त हुई। प्रपत्र, यानी, एक प्रचार वाहन और संसदीय मशीन के रूप में, इसका इस्तेमाल समाप्त कर दिया है।” 

  10.  मेरी जानकारी के अनुसार देश ने पहले प्रधानमंत्री के रूप में सरदार वल्लभभाई पटेल को भारी मतों से जिताया था लेकिन नेहरु अपनी जिद्द के चलते दूसरे स्थान पर नहीं रहना चाहते थे और कहीं न कहीं महात्मा गाँधी के मन में भी नेहरु के लिए Soft Corner था इसके चलते पटेल को प्रधानमंत्री की दावेदारी के पद से हटा दिया गया। 

  11.  भारत की प्रेरणादायक आत्मा – भगत सिंह, फ्रेंच, स्वीडिश, अंग्रेजी, अरबी, हिंदी और पंजाबी जैसे कई अलग-अलग भाषाओं को अत्यधिक धाराप्रवाह रूप से न केवल बोलते थे बल्कि एक बहुत ही अच्छे पाठक भी थे।

  12. भारत हमेशा विश्व-शांति का पक्षधर रहा है, निश्चित रूप से, इतिहास इसके बारे में बोलता है! भारत ने इतिहास के अपने पिछले 1,00,000 वर्षों में कभी भी किसी देश पर हमला नहीं किया है।

दोस्तों!! आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी हमें hellonewsfellow@gmail.com पर mail करके या नीचे comment box में कमेंट करके अवश्य बताएं। और यदि आपको इस पोस्ट में कोई त्रुटि लगती है तो हमें जरुर बताएं हम जल्द ही उसे ठीक करने की कोशिश करेंगे। एक बार फिर से आपको व आपके परिवार को newsfellow.com की ओर से स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

 

2 thoughts on “स्वतन्त्रता दिवस के विषय में जानिए अनजानी बातें:) Lesser known facts about India’s Independence.”

  1. Purnima says:

    Jai hind!! Its good to read such facts!!

  2. Gurpreet Singh says:

    Happy independence Day..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *