Home > Inspirational > संस्कृत पढ़ने से बनेगा भाग्य, जानिए अदभुत तथ्य/Language of Future:Sanskrit

संस्कृत पढ़ने से बनेगा भाग्य, जानिए अदभुत तथ्य/Language of Future:Sanskrit

वेदों से पहले की कोई भी पुस्तक का पता अब तक नहीं चल पाया है और वेदों की मूल वाणी संस्कृत है इसलिए ही संस्कृत को सभी भाषाओँ की माँ कहा जाता है। इसे देववाणी, या सुरभारती के नाम भी जाना जाता है। हिन्दू धर्म के साथ साथ बौद्ध और जैन धर्म के बहुत से ग्रंथ संस्कृत भाषा में ही लिखे गये हैं। आइये विश्व की सबसे उन्नत भाषा के विषय में कुछ रोचक तथ्य जानने की कोशिश करतें हैं।

    1. सन 1987 में Forbes पत्रिका के अनुसार संस्कृत Computer programming के लिए सबसे उत्तम भाषा है क्यूंकि इसकी व्याकरण Computer Programming से मिलती जुलती है। 1985 में Rick Briggs  इसे साबित भी कर चुकें हैं।
    2. जर्मन स्टेट यूनिवर्सिटी के अनुसार भारतीय पंचांग/कैलेंडर वर्तमान समय में प्रयोग किये जाने वाला सबसे उत्तम कैलेंडर है क्यूंकि इसमें नया साल और सौर प्रणाली भूवैज्ञानिक परिवर्तन के साथ शुरू होता है।
    3. अमेरिकन हिन्दू यूनिवर्सिटी के अनुसार संस्कृत बोलने वाले व्यक्ति को Sugar, BP, cholesterol आदि बीमारियाँ नहीं होती और अगर हों तो ठीक होने की संभावना भी बढ़ जाती है। संस्कृत बोलने वाले व्यक्ति का nervous system active रहता है जिस से की शरीर में positive energy बनी रहती है। हमें भी प्रतिदिन 2-4 संस्कृत मन्त्रों का उच्चारण अवश्य करना चाहिए। 
    4. दुनियांभर के 17 देशों में एक या एक से अधिक यूनिवर्सिटीज संस्कृत को समर्पित हैं लेकिन दुर्भाग्य यह है कि भारत में संस्कृत को समर्पित एक भी यूनिवर्सिटी नहीं है।
    5. आपको जानकर हैरानी होगी कि दुनियां भर की 97% भाषाएँ संस्कृत से प्रभावित हैं।
    6. एक शोध से पता चला है कि संस्कृत पढ़ने से स्मरण शक्ति का विकास तेज़ गति से होता है।
    7. फ्रांस, जापान, स्वीडन, अमेरिका, रूस, जर्मनी अदि देश भगवान शिव के तांडव स्वरुप “नटराज” पर शोध कर रहें हैं आपको बता दें जेनेवा में UNO के ऑफिस के सामने नटराज की एक प्रतिमा भी है। 
    8. इंग्लैंड हमारे “श्रीचक्र” पर आधारित रक्षा प्रणाली पर शोध कर रहा है।          
    9. संस्कृत में आजतक 102 अरब 78 करोड़ 50 लाख शब्दों का प्रयोग किया जा चुका है और अगर इसे एक Computer Language बना दिया जाये तो इस से भी ज्यादा शब्दों का निर्माण अगले 100 वर्षों में किया जा सकता है।
    10. NASA के अंदर एक पूरा department संस्कृत भाषा को समर्पित है जो मनुस्मृति के लेखों को decode करने का काम करता है। 
    11. नासा की ही एक रिपोर्ट के मुताबिक यह सामने आया है कि अमेरिका में संस्कृत भाषा पर आधारित 6th और 7th generation के super computers बनने शुरू हो चुकें हैं। 6th generation project की deadline 2025 तक है और 2034 तक 7th generation super computers के तैयार होने की सम्भावना है।
    12. जर्मनी के Airlines का नाम “Lufthansa” है जिसका मतलब “लुप्त हंस” से है पक्षियों की एक विशेष प्रजाति जो अब लुप्त हो चुकी है और भारत में ही पाई जाती थी। वैसे कुछ लोगों का मानना है कि लुफ्त का जर्मन भाषा में अर्थ “Air” होता है और Hansa league Medieval यूरोप की trading कंपनी थी लेकिन जो लोग इस बात का दम भरतें हैं कि ये Air+hansa से बना है तो भैया!! Lufthansa की flight पर Swan/crane/हंस क्यूँ बना होता है? जर्मन हिन्दू धर्म से प्रेरित है या नहीं, तो आपको बता दें कि स्वयं को आर्य कहने पर यहाँ के लोग बड़ा गर्व अनुभव करते हैं आपको याद हो अगर तो हिटलर जर्मन था और उसकी सेना का निशान स्वास्तिक था।  
    13. अब आपको एक ऐसा Fact बताते हैं जो वाकई में गजब है NASA द्वारा जब कोई information अंतरिक्ष यात्रियों को भेजी जाती थी तो उनका वह English में भेजा गया Message टूटा-फूटा पहुँचता था और शब्द आगे पीछे होने की वजह से उसके अर्थ का अनर्थ हो जाता था। काफी भाषाओँ में try करने के बाद उस सन्देश को संस्कृत में भेजने की कोशिश की गयी और decode करने पर सन्देश का सही अर्थ जाना जा सका। उदाहरण के लिए अगर आप संस्कृत में “अहं गृहं गच्छामि” को “गच्छामि गृहं अहं” का मतलब same रहता है और यही संस्कृत की विशेषता है।
    14. NASA के पास 60 हजार से भी ज्यादा Manuscripts हैं जिसका वे अध्ययन कर रहें हैं।
    15. James Junior School जो कि LONDON में है वहां संस्कृत की पढ़ाई को पिछले 30 सालों से Compulsory कर दिया गया है।

दोस्तों!! आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी हमें comment करके जरुर बताएं और आप हमें hellonewsfellow@gmail.com पर Email भी कर सकतें हैं।

3 thoughts on “संस्कृत पढ़ने से बनेगा भाग्य, जानिए अदभुत तथ्य/Language of Future:Sanskrit

  1. Amazed to get such information about Sanskrit language.. Thanks for sharing bro.. Keep posting like this..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *