5 आविष्कार जो दुनियां बदल सकते थे लेकिन छुपाये गये/5 Untold Inventions of the world

Hello Fellows,

पृथ्वी पर talented लोगों की कोई कमी नहीं है कोई अपाहिज होकर भी Mount Everest चढ़ जाता है और कोई समुद्र में सबसे तेज़ मछली Shark से रेस लगाता है, कोई अपने शरीर को योगाभ्यास से इतना strong बना लेता है कि माथे पर Drilling machine चलाने से भी कोई असर नहीं होता। हम सब जानते हैं की आवश्यकता आविष्कार की जननी है इसलिए समय समय पर बहुत से लोगों ने ऐसे ऐसे आविष्कार किये जिस से इस दुनिया को बदला जा सकता था लेकिन किसी ना किसी वजह से ऐसे लोगों के आविष्कारों का दमन कर दिया गया क्यूंकि बड़े बड़े Business houses को ऐसी inventions से डर लगने लगा था लेकिन हमारा दावा है कि अगर ये आविष्कार हुए होते तो ना जाने हम कहाँ होते।

Tom Ogle Carburetor: 1978 में Tom Ogle ने एक ऐसे कार्बोरेटर की खोज की जो कि ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री का भाग्य ही बदल देता। ये आविष्कार तब हुआ जब Tom 19 साल के थे और उन्होंने अपने Lawn Mover (घास काटने की मशीन) के fuel टैंक में गलती से छेद कर दिया था और Tom ने उसे Vacuum line की मदद से कार्बोरेटर के साथ जोड़ दिया। ऐसा करने से Fuel टैंक आधा भरा होने के बाद भी 96 घंटे तक चलता रहा। अगले 5 सालों तक Tom ने अपनी कार Ford Galaxy के साथ काफी experiments किये। काफी सुधार करने के बाद उन्होंने पाया कि जो गाड़ी 3.78 लीटर में 32km चलती थी वही गाड़ी अब इतने ही फ्यूल में 160km चलने लगी है।

Tom ने दावा किया कि वह 7.56 लीटर फ्यूल में 316 Km गाड़ी चला सकते हैं जब उन्होंने ऐसा कर दिखाया तो उनकी पहचान एक आविष्कारक के रूप में बनी और उन्हें काफी सारी investments मिलनी शुरू हो गयी। जब इस तकनीक को पेटेंट करवाने की बात आयी तो अमेरिका की एक बड़ी कंपनी General Motors ने दावा किया ये पेटेंट तो already उनके पास है। ऐसा होने से Tom के दोस्त उनका साथ छोड़ने लगे और Shell company जिसने 2.5 करोड़ डॉलर invest किये थे वापिस ले लिए। इसके बाद Tom depression में चले गये और नशा करने लगे लेकिन एक दिन उनकी गोली मारकर हत्या कर दी गयी। और अख़बारों में आया कि उनकी मौत Drug Overdose से हुई है। आश्चर्य की बात तो ये है इसके बाद कोई कंपनी जिसने भी दावा किया था कि पेटेंट उनके पास है वो भी सामने नहीं आई। कहीं न कहीं तेल और ऑटोमोबाइल कंपनियों की साजिश का शिकार Tom को होना पड़ा।   

Palladium Cigarette: पूरे संसार में हर साल करीब 55 लाख लोग धुम्रपान की वजह से मारे जाते हैं लेकिन क्या कभी आपने सुना है कि सिगरेट सेहत के लिए फायदेमंद भी हो सकती है और जिसमे कैंसर करने वाले chemicals ही न हों। 1950 में साइंटिस्ट डॉ.जेम्स डी मोल्ड ने एक ऐसी ही cigarette बनाने की शुरुआत की डॉ जेम्स नार्थ कैरोलिना की एक कंपनी Liggett & Myers में काम कर चुके थे। अपने अध्ययनों से और 25 साल की मेहनत से एक सिगरेट बना पाए उन्होंने इसे Project XA का नाम दिया। इस सिगरेट में Palladium, और magnesium Nitrate होने का भरोसा दिया गया जो कैंसर करने वाले chemical को खत्म कर देता था। इसे palladium सिगरेट का नाम दिया गया। इस बात का जब कंपनी के वकीलों को पता चला तो उन्होंने Liggett & Myers को कहा की ये सिगरेट launch करने से उनके वर्तमान customers नाराज हो सकतें हैं और कम्पनी पर केस कर सकतें हैं। ये जानते हुए भी कि ये तकनीक काफी सारे लोगों को मौत के मुंह में जाने से बचा सकती है इसके बावजूद कंपनी ने अपना समर्थन वापिस ले लिया और इसे सामने नहीं आने दिया गया और 2002 में उनकी मृत्यु हो गयी जिसका रहस्य आज भी बना हुआ है।     

Plasma Battery:  Dimitry Petronov उन लोगो में से थे जो इस पृथ्वी से अँधेरा हमेशा हमेशा के लिए गायब कर देना चाहते थे। जी हाँ!! आपके और हमारे घर में बिजली की समस्या खत्म हो जाती। इस महान वैज्ञानिक का जन्म 1952 में हुआ और उन्होंने अपनी पढ़ाई बर्लिन के Engineering college से हासिल की। 20 साल तक उन्होंने Aviation company  में काम किया लेकिन खाली समय में वे आविष्कार करते रहते थे जिसमे उन्होंने एक तेज़ Led flash light की खोज की लेकिन महंगी होने के कारण आम लोगों तक पहुँच न बना पाई। इसके बाद उन्होंने Plasma Battery का आविष्कार किया। उनका दावा था की इस बैटरी को 3 साल तक चार्ज किये बिना प्रयोग किया जा सकता है। 2009 में उन्हें मास्को की लैब से निमन्त्रण आया जिसमे वे एक duplicate बैटरी साथ ले गये और वहां की Army ने वह बैटरी रख ली और एक शर्त रखी कि इस technology में Invest करने के लिए तैयार हैं लेकिन इसका इस्तेमाल केवल Russia में ही होगा इसके बाद वे काफी खुश थे लेकिन एक हफ्ते बाद उनके घर Frabidiyn नाम का एक युवक आया और उनकी बहन के अनुसार उसके बाद Dimitri थोड़े परेशान हो गये थे और उन्हें 13 फरवरी 2010 को आखिरी बार एक बेकरी से bread खरीदते देखा गया। इसके बाद से उनका कोई पता नहीं चला उनकी बहन जब पुलिस स्टेशन में इस बात की रिपोर्ट लिखवाने  के बाद घर लौटी तो घर में अँधेरा था और लोगों ने बताया 2 military के लोग उनके घर में घुसे और Dimitri की Technology से जगमग घर की lights लेकर चले गये। इसके 2 हफ्ते बाद उन्हें एक parcel के द्वारा Dimitri की घड़ी मिली और लगभग एक साल के बाद रूस की वोल्गा नदी में सड़ी गली लाश मिली जिसके हाथ और दांत नहीं थे जिस से पहचान ना हो सकी लेकिन ऐसा माना जाता था कि वह Dimitri की लाश है परन्तु  रहस्य आजतक बना हुआ है।                  

Sloot Digital Coding System: Netherland के मशहूर Electronic Technician “Romke Jan Bernhard” ने 1995 में यह दावा किया की उन्होंने एक ऐसा Data Compression System बनाया है जिससे 1.5 GB की movie को सिर्फ़ 8 KB में Store किया जा सकता था। इसका प्रदर्शन उन्होंने Phillips company के Engineer के सामने किया जिसमे उन्होंने 8 movies को केवल 64KB की chip पर store करके एक के बाद एक चलाकर दिखाया। इसके बाद Phillips उनके इस project में निवेश करने को तैयार हो गयी लेकिन इस से पहले कि Jan Bernhard source code उन्हें दे पाते, 11 जुलाई 1999 को उनकी रहस्यमयी तरीके से मृत्यु हो गयी। भले ही मौत की वजह को हार्ट अटैक बताई जाती रही हो लेकिन असली वजह को छुपाया गया। 

Water Fuel Cell: Stanley Mayer और उनका जुड़वा भाई 1942 में Columbus में पैदा हुए। Stanley ने Ohio university से पढ़ाई करके NASA के साथ काम किया और Jaimini व Star Horse project में अहम भूमिका भी निभाई। उन्होंने बहुत से आविष्कार किये और 42 Patents अपने नाम किये। इसमें से सबसे ख़ास था “Water Fuel Cell” जिसमें पानी में उपस्थित हाइड्रोजन और ऑक्सीजन को अलग करने की तकनीक शामिल थी और उस अलग हुई हाइड्रोजन से कोई भी वाहन चलाया जा सकता था। और इसका प्रदर्शन Navy officer, university professor के सामने गाड़ी चलाकर किया। इसके लिए उन्हें काफी Investors भी मिलने लगे। अब उन्हें अपनी इस तकनीक को Court में साबित करना था 3 विशेषज्ञों की टीम ने उनके इस आविष्कार को पारंपरिक Electrolysis की technique बताकर रिजेक्ट कर दिया और Court ने Stanley को 2 मुख्य Investors का पैसा लौटाने का आदेश दे दिया। इसके बाद उनका भाई और वे 20 सालों बाद मार्च 1998 में इस तकनीक को और बेहतर बनाने के बाद Grove city, cracker barrel नामक जगह पर मिले। अभी Stanley ने जूस का एक घूँट पिया ही था कि उन्होंने अपना गला पकड़ लिया और उलटी करते हुए बाहर आ गये और मौके पर ही उनकी मौत हो गयी, उनके आखिरी शब्द थे “उन्होंने मुझे जहर दे दिया”।  

दोस्तों, लालच के चलते न जाने कितनी ही सरकारों और business houses ने ऐसे कितने ही वैज्ञानिकों को अपने रास्ते से हटा दिया। आप ही सोचिये कि जब CFL का जमाना था तब LED की तकनीक से भी आगे Plasma technology के विषय में Dimitri Petronov द्वारा सोचा जा चुका था। अगर इन्हीं सरकारों या business houses ने इन्हें मरवाया न होता तो LED से 15 साल तक होने वाली कमाई की मलाई कैसे खाते?

3 Comments

  1. Surprised to hear about these inventions.People should not stop such things which can change our future. Thanks to you champ to writ on this!!

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*